Tourist GK – गुप्त गोदावरी

गुप्त गोदावरी के बारे में जानकारी

गुप्त गोदावरी चित्रकूट में स्थित एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। मध्य प्रदेश के जिले चित्रकूट से एक राय समाधि रहस्यमई नदी निकलती है इस नदी के कई राज्य ऐसे हैं जिनको आज तक कोई सुलझा नहीं पाया है। यूपी के रामघाट से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर विंध्य पहाड़ियों के पन्ना श्रेणी की गुफाओं में एक गुप्त गुफा स्थित है इस गुप्त गुफा को गुप्त गोदावरी के नाम से जाना जाता है। यह जगह हिंदुओं के लिए अति विशिष्ट स्थानों में से एक है। इस जगह के बारे में या कहा जाता है कि यहां पर भगवान श्री राम ने कुछ पल के लिए अपना दरबार लगाया था। गुप्त गोदावरी यहीं पर प्रकट होती हैं और यहीं पर ही अदृश्य भी हो जाती हैं। प्राकृतिक तौर पर निर्मित इस गुफा में आपको कई चौंकाने वाली और रहस्यमई चीजें भी देखने को मिल जाती हैं गुप्त गोदावरी के अपना पौराणिक इतिहास आज भी लोगों को खींच लाता है।

post by Tourist GK

गुप्त गोदावरी की गुफा

गुप्त गोदावरी मुख्य तौर पर दो गुफाओं में दिखाई देती है पहली गुफा जो थोड़ी ऊंचाई पर है जबकि दूसरी गुफा उसके निचले हिस्से में बनी हुई है पहली गुफा में पानी काफी कम मात्रा में दिखाई देता है जबकि नीचे वाली गुफा में पानी घुटनों तक होता है। Tourist GK ke hisab se ऐसा माना जाता है कि गुप्त गोदवा गोदावरी गुप्त रूप से भगवान श्री राम जी के दर्शन करने के लिए यहां पर प्रकट हुई थी और यही पर लुप्त भी हो गई थी। 

लाल किला का इतिहास-history of red fort in hindi

दिल्ली के यमुना नदी के तट पर स्थित यह लाल किला का इतिहास बेहद प्राचीन है। Tourist GK इस लाल किले को मुगल बादशाह शाहजहां ने बनवाया था। यह किला इतना भव्य और विशाल है कि इसको बनाने में लगभग 10 वर्षों का समय लगा था। लाल किला को बनाने के लिए बादशाह ने 1638 ईसवी में आदेश जारी किया था जबकि यह 1648 ईसवी में बनकर तैयार हुआ था। लाल किला का सौंदर्य और भव्य आकर्षण पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। शाहजहां को भारत में बड़ी इमारतें और किले बनवाने के लिए जाना जाता है। जिसमें से एक ताजमहल आज दुनिया के सबसे अच्छे महलों में से एक है जिसको देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। ठीक उसी प्रकार लाल किला भी सबसे बड़े किलो और पुराने किलो में से एक है जिसके प्रति लोगों में सच्ची श्रद्धा और आस्था बनी रहती है।

Leave a Comment

%d bloggers like this: